हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।
कुंडलिया
कुंडलिया मात्रिक छंद है। दो दोहों के बीच एक रोला मिला कर कुण्डलिया बनती है। आदि में एक दोहा तत्पश्चात् रोला छंद जोड़कर इसमें कुल छह पद होते है। प्रत्येक पद में 24 मात्राएं होती हैं व आदि अंत का पद एक सा मिलता है। पहले दोहे का अंतिम चरण ही रोले का प्रथम चरण होता है तथा जिस शब्द से कुंडलिया का आरम्भ होता है, उसी शब्द से कुंडलिया समाप्त भी होती है।

Articles Under this Category

कलमकार पर कुंडलियाँ - राम औतार पंकज

कलमकार का है यही, गुण कर्त्तव्य पुनीत ।
सदा सृष्टि-कल्याण हित, रचे नीति के गीत ।।
रचे नीति के गीत, स्वस्थ मन-भ्रान्ति न लाये ।
जगा विश्व बन्धुत्व, न्याय हित क्रान्ति जगाये ।।
'पंकज' हो निष्पक्ष, पक्षधर सदाचार का।
पूजेगा पद-चिह्न, जगत उस कलमकार का।।
...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश